Skip to main content
2015 Years of Soil Swachhta Bharat Mission Make in India 150 years of celebrating the Mahatma Skoch Gold Award Digital India Award

राजभाषा प्रभाग

राजभाषा हिन्दी का प्रगामी प्रयोग  

राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय द्वारा समय-समय पर जारी दिशानिर्देशों के तहत संघ की राजभाषा नीति के अनुपालन हेतु उर्वरक विभाग सतत प्रयत्‍नशील है। विभाग, इसके संबद्ध कार्यालय और 8 उपक्रमों में हिन्दी के प्रगामी प्रयोग से संबंधित कार्य संयुक्त सचिव (प्रशासन) के प्रशासनिक नियंत्रणाधीन है। उनकी सहायता के लिए दो उप निदेशक (रा.भा.), दो सहायक निदेशक (रा.भा),तीन वरिष्ठ अनुवाद अधिकारी और एक कनिष्ठ अनुवाद अधिकारी के पद सृजित हैं। उर्वरक विभाग ने केंद्र सरकार की राजभाषा नीति को कार्यान्‍वित करने के लिए राजभाषा विभागगृह मंत्रालय द्वारा जारी किए गए वार्षिक कार्यक्रम को ध्यान में रखते हुए वर्ष 2019-2020 के दौरान हिन्दी के अधिकाधिक प्रयोग के लिए प्रयासरत है।

विभाग में सभी 270 कंप्यूटर यूनिकोड समर्थित द्विभाषी सुविधायुक्त हैं। पत्राचार में हिन्दी का प्रयोग बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं। विभाग के सभी अधिकारियों/कर्मचारियों को हिन्दी का कार्यसाधक ज्ञान प्राप्त है। इसके अतिरिक्त विभाग द्वारा इसके प्रशासनिक नियंत्रणाधीन संबद्ध कार्यालय एफआर्इसीसी तथा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में हिन्दी के प्रगामी प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए अनेक कारगर उपाय किए गए हैं। इन उपायों का संक्षिप्त ब्यौरा इस प्रकार है:-  

राजभाषा अधिनियम की धारा 3(3) का कार्यान्वयन

भारत सरकार की राजभाषा नीति के अनुसरण में राजभाषा अधिनियम, 1963 की धारा 3(3) के अंतर्गत आने वाले सभी कागजात हिन्दी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में जारी किए जा रहे  हैं।राजभाषा नीति का अनुपालन सुनिश्‍चित करने हेतु  '', 'और  'क्षेत्र में स्थित केन्‍द्र सरकार के कार्यालयों को हिन्दी में पत्र भेजना सुनिश्‍चित करने के लिए विभाग में बनाए गए जाँच बिन्दुओं के आधार पर कार्य-योजना तैयार की गर्इ है। हिन्दी में प्राप्त सभी पत्रों का उत्तर हिन्दी में ही दिया जाता है। 'क और 'ख क्षेत्रों से अंग्रेजी में प्राप्त पत्रों के उत्तर भी हिन्दी में देने के प्रयास किए जा रहे हैं। राज्य सरकारों के साथ हिन्दी में मूल पत्राचार बढ़ाने के प्रयास भी किए जा रहे हैं। 

 

हिन्‍दी प्रशिक्षण

विभाग ने अपने उन सभी अधिकारियों/कर्मचारियों को हिन्‍दी, हिन्‍दी आशुलिपि/हिन्‍दी टंकण का सेवाकालीन प्रशिक्षण देने के लिए एक समयबद्ध कार्यक्रम तैयार किया है। विभाग के 4 आशुलिपिकों को अभी हिन्‍दी आशुलिपिक प्रशिक्षण दिया जाना है। निकट भविष्‍य में इन्‍हें प्रशिक्षण के लिए भेजा जाएगा। विभाग ने केन्‍द्रीय हिंदी प्रशिक्षण संस्‍थान हिंदी शब्‍द-संसाधन (हिंदी टंकण) पत्राचार पाठ्यक्रम के अंतर्गत श्री संजीत, कनिष्‍ठ सचिवालय सहायक रोकड़ अनुभाग को प्रशिक्षण के लिए नामित किया है। इस समय वह प्रशिक्षण प्राप्‍त कर रहे हैं।    

राजभाषा हिन्‍दी से संबंधित रिपोर्टें

विभाग की तिमाही/वार्षिक रिपोर्टें तैयार की गईं और राजभाषा विभाग को भेजी गईं और इसके नियंत्रणाधीन उपक्रमों से प्राप्‍त रिपोर्टों की समीक्षा की गई।

वार्षिक कार्यक्रम

 राजभाषा विभाग द्वारा जारी वर्ष 2019-20 का वार्षिक कार्यक्रम प्राप्त किया गया और उसे विभाग के सभी अनुभागों और विभाग के नियंत्रणाधीन उपक्रमों/कार्यालय में परिचालित किया गया।

राजभाषा कार्यान्वयन समिति (ओएलआर्इसी)

 विभाग में राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति गठित की गई है जिसके अध्यक्ष संयुक्त सचिव स्तर के अधिकारी हैं। यह समिति विभाग तथा इसके संबद्ध कार्यालय एफआर्इसीसी तथा सार्वजनिक क्षेत्र के 8 उपक्रमों में हिन्दी के प्रयोग में हुर्इ प्रगति की तिमाही आधार पर आवधिक समीक्षा करती है। यह राजभाषा नीति के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए समुचित सुझाव देती है और उपायों की सिफारिश करती है।

हिन्दी सलाहकार समिति

 सरकार की राजभाषा नीति के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए सलाह देने के उद्देश्‍य से रसायन और उर्वरक मंत्रालय की हिन्दी सलाहकार समिति, जो रसायन और पेट्रो-रसायन विभाग, औषध विभाग और उर्वरक विभाग की संयुक्त समिति है, का पुनर्गठन प्रक्रियाधीन है।   

हिन्दी में मूल टिप्पण/प्रारूप लेखन के लिए प्रोत्साहन योजना

हिन्दी में टिप्पण/प्रारूप लेखन के लिए राजभाषा विभाग द्वारा प्रारम्भ की गर्इ प्रोत्साहन योजना इस विभाग में कार्यान्‍वित की जा रही है। इस योजना के अंतर्गत 5000/- रुपए के दो प्रथम पुरस्कार, 3000/- रुपए के तीन द्वितीय पुरस्कार और 2000/-  रुपए के पांच तृतीय पुरस्कार दिए जाते हैं। कुल 6 (छह) प्रतिभागियों को पुरस्कार प्रदान किए गए।

हिंदी में डिटेशन के लिए नकद पुरस्‍कार योजना

 विभाग में अधिकारियों के लिए हिंदी में डिक्‍टेशन देने के लिए एक प्रोत्‍साहन योजना चलाई जा रही है। इस योजना के अंतर्गत 5000/- रुपए के दो नकद पुरस्‍कार (एक पुरस्‍कार हिंदी भाषी और दूसरा पुरस्‍कार हिंदीतर भाषी के लिए) दिए जाते हैं। 

हिन्दी दिवस/हिन्दी पखवाड़ा

विभाग के अधिकारियों/कर्मचारियों को सरकारी कामकाज में हिन्दी के प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए माननीय गृह मंत्री जी और माननीय मंत्रिमंडल सचिव के संदेश विभाग के सभी अधिकारियों/कर्मचारियों तथा विभाग के प्रशासनिक नियंत्रणाधीन सभी उपक्रमों को परिचालित किए गए। विभाग में दिनांक 12 सितम्बर, 2019 से 26 सितम्बर, 2019 के दौरान हिन्दी पखवाड़ा मनाया गया जिसमें हिन्दी निबन्ध लेखनहिन्दी टंकणहिन्दी में आशुभाषणहिन्दी टिप्पण और प्रारूप लेखन (हिंदी भाषी और हिंदीतर भाषियों के लिए अलग-अलग) हिन्दी सामान्य ज्ञान तथा राजभाषा प्रश्‍नोत्‍तरी प्रतियोगिताओं जैसी विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। इन प्रतियोगिताओं में अधिकारियों/कर्मचारियों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया और अधिकारियों/कर्मचारियों को कुल 37 पुरस्कार प्रदान किए गए। माननीय अपर सचिव (उर्वरक) महोदय द्वारा विजेताओं को पुरस्‍कार वितरित किया गया है।

 

हिन्दी कार्यशालाएं

वर्ष के दौरान कर्मचारियों को हिन्दी काम करने में झिझक को दूर करने और अधिक काम करने के लिए प्रोत्साहित करने हेतु विभाग में 2 हिन्दी कार्यशालाओं का आयोजन किया गया, जिसमें एक कार्यशाला अवर सचिव से निदेशक स्तर तक के अधिकारियों के लिए तथा एक कार्यशाला अनुभाग अधिकारियों/निजी सचिवों/सहायक अनुभाग अधिकारियों/डीईओ के लिए थी। इन कार्यशालाओं में 32 अधिकारियों/कर्मचारियों ने भाग लिया।

 

हिन्दी के प्रगामी प्रयोग के संबंध में निरीक्षण

 राजभाषा हिन्दी के कार्यान्वयन की देखरेख करने की दृष्‍टि से वर्ष के दौरान विभाग के सभी अनुभागों तथा विभिन्‍न सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों की 4 इकाइयों का विभाग के सहायक निदेशक (रा.भा.)  द्वारा निरीक्षण किया गया।

विभाग में दिनांक 12.09.2019 से 26.09.2019 तक आयोजित किए गए हिंदी पखवाड़ा 2019 का शुभारंभ करते हुए माननीय संयुक्त सचिव (पीएस) श्री पार्थ सारथी सेन शर्मा

विभाग में दिनांक 12.09.2019 से 26.09.2019 तक आयोजित किए गए हिंदी पखवाड़ा 2019 के दौरान आयोजित हिंदी टिप्पण-प्रारूप लेखन प्रतियोगिता में भाग लेते प्रतिभागी।

Image removed.

हिंदी पखवाड़ा 2019 के विजेता प्रतिभागियों के लिए आयोजित पुरस्कार वितरण समारोह की अध्यक्षता करते हुए माननीय अपर सचिव महोदय श्री धर्मपाल