लगभग 1.2 अरब आबादी के साथ

लगभग 1.2 अरब आबादी के साथ, भारत एक मजबूत, आधुनिक कृषि क्षेत्र की आवश्यकता को अपनी आबादी के लिए भोजन की सुरक्षा सुनिश्चित है. आदेश में खाद्यान्न की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए, कृषि उत्पादकता और विकास के लिए निरंतर और आगे सुधार की जरूरत है. यह कृषि योग्य भूमि, सिंचाई, उच्च उपज बीज और एक उच्च खाद्य उत्पादन के लिए उर्वरकों की तरह करने के लिए महत्वपूर्ण निविष्टियाँ और संसाधनों का प्रबंधन जरूरी है. इसके अलावा, उर्वरकों के संतुलित उपयोग मिट्टी की स्थिति पर आधारित है, निश्चित रूप से भारत में कृषि उत्पादकता में सुधार होगा. उपरोक्त उद्देश्यों के साथ हर साल, उर्वरक विभाग के इस प्रकाशन उर्वरक उद्योग के लाभ के लिए प्रकाशित किया जाता है. आदेश में उपयोगी जानकारी सार्वजनिक, नीति निर्माताओं और शोधकर्ताओं के लिए उपलब्ध बनाने के लिए उर्वरक विभाग "भारतीय उर्वरक - परिदृश्य 2010" उर्वरक क्षेत्र से संबंधित प्रकाशित है.

यह लगातार किया गया है प्रकाशन उपयोगकर्ता के अनुकूल बनाने के लिए और कवरेज और सालाना की सामग्री में सुधार के संदर्भ के अंतर्गत वर्ष के उर्वरक के क्षेत्र में जानकारी की है कि फुलर परिप्रेक्ष्य विधिवत प्रस्तुत किया है तो करने का प्रयास.

मैं इस प्रकाशन के लिए मेरी शुभकामनाएं देता हूं.